01 मई 2017

ट्रेन से कटकर मरनेवालों के परिजनों को नहीं मिलेगा मुआवजा, मृतकों की संख्या पहुंची 9

शेखपुरा। जिले के सिरारी स्टेशन के पास मालगाड़ी से कटकर मरने वालों की संख्या 9 हो गई है। जबकि रेलवे का कहना है कि इस मामले में मृतकों के परिजनों को मुआवजा नहीं मिलेगा क्योंकि इसमें रेलवे की कोई लापरवाही नहीं है।

घायल किशोरी राम की बेटी झुना कुमारी (12) की मौत भी देर रात हो गई। उसे गंभीर हालत में शेखपुरा सदर अस्पताल से पीएमसीएच  भेजा गया था। रास्ते मे ही उसने दम तोड़ दिया।
दरअसल किऊल-गया रेलखंड पर सिरारी स्टेशन के पास रविवार की देर शाम एक थ्रू लाइन मालगाड़ी की चपेट में आकर आठ से अधिक लोगों के मौत हो गयी थी। कई लोगों की स्थिति गंभीर बनी हुई थी। तेज़ आंधी - बारिश कारण पूरा अधेरा फ़ैल जाने कारण घटना स्थल पर बचाव दल को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। जानकारी के अनुसार रामपुरहाट-गया पैसेंजर ट्रेन से कई यात्री शेखपुरा जिले के सिरारी स्टेशन पर उतरे। स्टेशन पर उतरने के बाद यात्री रेलवे ट्रैक होकर ही अपने-अपने गांव की तरफ जा रहे थे। रामपुर हाट-गया पैसेंजर ट्रेन स्टेशन पर खड़ी ही थी, उधर शेखपुरा की तरफ से आ रही एक मालगाड़ी को थ्रू लाइन से पास करा दिया गया। रेलखंड पर एक पुलिया पर फुटपाथ नहीं है। इस कारण यात्री बीच ट्रैक से गुजर रहे थे। इसी दौरान मालगाड़ी की चपेट में पैदल जा रहे करीब दर्जन भर यात्री आ गए। जिसमे अब तक नौ लोगो की मौत हो गयी है। तथा कई को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। प्रारंभिक जानकारी में रामगढ़ चौक के महसौड़ा निवासी सुरेश यादव, सिसमा के अर्जुन ठाकुर की बेटी सरोजनी देवी एवं उसकी दस साल की बेटी, भंवरिया के रामोतार यादव की पत्नी आशा देवी एवं बेटा पुरूषोत्तम, इसी गांव के मंगल यादव, सिसमा के हरवल्लभ सिंह की पत्नी मुन्नी देवी, सिसमा के महेश ठाकुर के बेटा की मौत हो चुकी है। तत्पश्च्ताप इलाज के दौरान किशोरी राम की बेटी झुना कुमारी (12) की मौत भी देर रात हो गई। उसे गंभीर हालत में शेखपुरा सदर अस्पताल से पीएमसीएच  भेजा गया था। रास्ते मे ही उसने दम तोड़ दिया। जबकि सरोजनी देवी की एक पुत्री एवं एक पुत्र सहित पांच की संख्या में लोग गंभीर हैं। घटना की सुचना पाकर मौके पर लखीसराय के एसपी अशोक कुमार पुलिस बल के साथ पहुंचे गये थे।
सिरारी स्टेशन प्रबंधक अनिल कुमार ने कहा की यह घटना लापरवाही के कारण घटी है ,यदि रेलवे की गलती होती तो मुआबजा दिया जाता। जिस पूल पर घटना घटी है वो आम रास्ता नहीं था। लेकिन शॉर्टकट के चक्कर में यह हादसा हुआ है। 
घटना के बाद से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। इस घटना में कई अपनों की मौत गम भी लोगो को सता रहा है। मृतक सुरेश यादव के दामाद गुड्डू सिंह ने 28 अप्रैल को उसकी शादी हुई था और तीन दिन बाद यह घटना घटी।

सिरारी ओपी थाना के एएसआई सुरेन्द्र प्रसाद यादव ने बताया की घटना की सुचना मिलते ही तुरंत घटनास्थल पर पहुंचकर राहत कार्य में जुट गये और जिला के आला अधिकारी को सुचना भी दिये।

मोनू खान

मोनू खान। फुटपाथ पर बुक स्टॉल चलाते वक्त मित्रता हुई और कई सालों तक घंटों साथ रहा। मोनू खान, ईश्वर ने उसे असीम दुख दिया था। वह दिव्यांग था। ...